News

Vinayak Chaturthi 2023: महत्व, पूजा विधि और शुभ योग – अगस्त 2023

Vinayak Chaturthi 2023: हर महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को विनायक चतुर्थी के रूप में मनाई जाती है। इस समय सावन मास का शुक्ल पक्ष चल रहा है। सावन शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि पर विधि-विधान से भगवान गणेश की पूजा-अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन विधि-विधान से पूजा-अर्चना करने से भगवान गणेश की विशेष कृपा प्राप्त होती है। भगवान गणेश प्रथम पूजनीय देवता हैं और किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत उनकी पूजा के बाद ही होती है।

Vinayak Chaturthi 2023 मुहूर्त:

श्रावण, शुक्ल चतुर्थी प्रारम्भ – 10:19 PM, 19 अगस्त
श्रावण, शुक्ल चतुर्थी समाप्त – 12:21 AM, 21 अगस्त

Vinayak Chaturthi 2023 – विनायक चतुर्थी पूजा विधि:

सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें।
घर के मंदिर में सफाई करें और दीप प्रज्वलित करें।
उसके बाद भगवान गणेश का गंगा जल से जलाभिषेक करें।
भगवान गणेश को साफ वस्त्र पहनाएं।
भगवान गणेश को सिंदूर का तिलक लगाएं और दूर्वा अर्पित करें।
उसके बाद भगवान गणेश की आरती करें और भोग लगाएं।

Vinayak Chaturthi 2023 – विनायक चतुर्थी पर 5 शुभ योग:

योग का नामतिथि और समय
सर्वार्थ सिद्धि योगप्रातः 05:53 बजे से 21 अगस्त, प्रातः 04:22 बजे तक
रवि योगप्रातः 06:21 बजे से 21 अगस्त, प्रातः 04:22 बजे तक
अमृत सिद्धि योग20 अगस्त, प्रातः 5:53 बजे से पूरे दिन तक
साध्य योग19 अगस्त, रात्रि 09:19 बजे से 20 अगस्त, रात्रि 09:58 बजे तक
शुभ योग20 अगस्त 2023, प्रातः 09:58 बजे से 21 अगस्त, रात्रि 10:20 बजे तक
विनायक चतुर्थी के दिनसुबह के समय ब्रह्म मुहूर्त में जल्दी उठकर स्नान करें। फिर लाल रंग के वस्त्र पहनकर सूर्य भगवान को तांबे के लोटे से अर्घ्य दें। भगवान गणेश के मंदिर में एक जटावाला नारियल और मोदक प्रसाद के रूप में लेकर जाएं। उन्हें गुलाब के फूल और दूर्वा अर्पण करें और “ॐ गं गणपतये नमः” मंत्र का 27 बार जाप करें और धूप दीप अर्पण करें।

फिर दोपहर के समय भगवान गणेश की प्रतिमा की स्थापना करें और संकल्प करके पूजन करें। श्री गणेश की आरती करें और मोदक का भोग उन्हें अर्पित करें। ऐसा करने से आपके ऊपर भगवान गणेश की कृपा सदैव बनी रहेगी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button